सोमवार, नवंबर 07, 2016

दिल्ली - धुंध है, धुंआ है, लाचारी है

धुंआ है, धुंध है, लाचारी है |
मार कुदरत की सब पे भारी है ||

कोसने से पहले सोचे, हमने क्या किया अब तक |
एक पौधा भी लगाया, या की बस बातें की ||

कहते रहे धरती को बचाना है |
और प्लास्टिक की पत्तलों में खाना है ||

नदियों को माँ कह के बस पूजते रहे |
या जिन्होंने गन्दगी फैलाई ,उन्हें रोका भी ||

जैसा चल रहा, चलता रहा अगर वैसा ही |
पानी बोतल में, हवा सिलिंडर में भर के बेचेंगे ||

बची रही नहीं अगर धरती हरी -भरी |
तो हम भी बचेंगे म्यूजियम में ही कहीं ||

शुद्ध हवा हमको अगर पाना है |
आज ही एक पेड़ चलो चलके लगाना है ||

ऐसी कैसी धरती छोड़ के हम जायेंगे |
शस्य श्यामल नहीं जो कालिम हो ||

ऐसा आकाश देंगे बच्चों को |
नीलिमा जिसकी कालिख वाली हो?

ऐसी नदिया कैसे छोड़ के हम जायेंगे |
जिसमे मछली भी जिन्दा नहीं है रह पाती ||

ये धरती हमारी नहीं, भविष्य की थाती है |
आओं, इसे हरी-भरी और खुशनुमा रखे ||

तितलियों, चिड़ियों, फूलों- फलों,
वन्य प्राणियों से भरा-पूरा रक्खे ||

सिर्फ कैंडल नहीं जलाएं हम |
उससे भी सिर्फ धुआं फैलेगा ||

सिर्फ नारे नहीं लगाए हम |
शोर चहुँ ओर उससे फैलेगा |

आओ हम पेड़ लगाये मिलकर |
और जियें प्रकृति से जुड़कर ||

धरती माँ है, माफ़ हमें कर देगी |
फिर से हमें दुलार से गोद में भर लेगी ||

शस्य श्यामल पुनः होगी जो धरा |
खुशियों का इन्द्रधनुष खिल-खिला उठेगा फिर से ||