मंगलवार, जनवरी 03, 2012

नव वर्ष २०१२

वर्ष है नया मगर हम है नए क्या|
हम नए नहीं हैं गर तो फर्क क्या हुआ ||

उम्मीद है कि इस नए वर्ष में हम भी नूतन बनने की कोशिशों में लगे रहेंगे .. हम जो हैं, उससे आगे 'जो होना चाहते हैं' की और अपने पग धरते रहेंगे. नए वर्ष में आपकी आँखों को सपनों की सौगात मिले, आपके सपनों को पंख मिले और आपकी परवाज को देख आसमां भी इन्द्रधनुषी मुस्कान से भर उठे, इसी दुआ के साथ आप सबों को और आपके सारे सपनों को , आपके सारे अपनों को नव वर्ष की ढेर सारी शुभकामनाएँ |

कोई टिप्पणी नहीं: