सोमवार, सितंबर 21, 2009

ये दुनिया कैसी दुनिया है ?

इस दुनिया में फूल हुए कम कांटे ज्यादा हैं

फूल बचे हैं जो भी वो सब हारे-मांदे हैं |


अच्छे लोग बने हैं मानो प्राणी चिडियाघर के

और बुरे लोगों के हाथों पैने भाले हैं |


देखा है अच्छे लोगों को मैंने घुटते तिल-तिल

और बुरे लोगों के घर में खुशियाँ नाचे हैं


दुनिया बन गयी ऐसी जिसमें चांदी शैतानों की

और भले लोगों को उनकी जान के लाले हैं


कभी-कभी शक होता है क्या है कोई ऊपर में

या फिर उसकी आँखों पर मोटे-से ताले हैं


आश न खो दुनिया बदलेगी दिल ये कहता है.

देखे इस आशा पर कब तक हम जीनेवाले हैं

1 टिप्पणी:

उन्मुक्त ने कहा…

विचारों में प्रवाह है। लिखते चलिये।

लगता है कि आप हिन्दी फीड एग्रगेटर के साथ पंजीकृत नहीं हैं यदि यह सच है तो उनके साथ अपने चिट्ठे को अवश्य पंजीकृत करा लें। बहुत से लोग आपके लेखों का आनन्द ले पायेंगे। हिन्दी फीड एग्रगेटर की सूची यहां है।