रविवार, अप्रैल 28, 2013

हर चुप्पी में इक चीख छुपी होती है



हर चुप्पी में इक चीख छुपी होती है|

हर सन्नाटे में इक गूंज दबी होती है |

 

इन चीखों को, इन गूंजों को बिरले कोई ही सुनता है |

कुछ आवाजों की दस्तक बस, दिल के दरवाजे होती है|

 

जो सुनता है और गुनता है- बैचैनी में सर धुनता है |

जिसको सुनना था-वो बहरा, उसके कानों पर है पहरा |

 

फिर कोई भगतसिंह आता है, संग अपने धमाके लाता है |

बहरे कानों की यही दवा, ये सीख हमें दे जाता है |

 

इन चीखों को, इन गूंजों को, अपने दिल में घर करने दे |

सत्ता से जनता नहीं डरे, सत्ता को जनता से डरने दे |

 

3 टिप्‍पणियां:

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार के "रेवडियाँ ले लो रेवडियाँ" (चर्चा मंच-1230) पर भी होगी!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बहुत खूब |

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page