रविवार, जुलाई 05, 2009

इश्क करके देख

इश्क करके देख रूह आजाद होगी
इश्क करके देख रोशन ये कायनात होगी
इश्क करके देख खुशनुमा हयात होगी
इश्क करके देख, इश्क ही हर बात होगी.

कोई टिप्पणी नहीं: